म्युचुअल फंड क्या है? निवेश की पूरी जानकारी: Mutual Fund in Hindi

Mutual Fund kya hai in Hindi : आप सब ने म्यूच्यूअल फंड्स का विज्ञापन टीवी में जरुर देखा होगा जो म्यूचुअल फंड सही है टैगलाइन के साथ आता हैं। उसे देखकर आपके मन में कुछ सवाल उठते होंगे की म्युचुअल फंड क्या हैं? इसमें निवेश कैसे करे? ये कैसे काम करता हैं और कैसे हम इससे घर बैठे पैसे कम सकते हैं। तो आज हम आपके इन सब सवालो के जवाब देंगे। बहुत से लोगो को ये गलतफैमी होती है की Mutual Funds में इन्वेस्ट करने के लिए काफी पैसो की जरुरत होती है पर ऐसा बिलकुल गलत हैं आप 500 रुपय भी निवेश करके पैसे कमा सकते हैं। एक और जो भ्रम जो लोगो को है म्यूचुअल फंड के बारे में वो है की ये शेयर मार्किट और म्यूच्यूअल फंड्स दोनों एक ही होते हैं ये भी सही नहीं हैं। 

Mutual Fund kya hai in Hindi

Mutual fund in Hindi

म्यूचुअल फंड क्या है : What is Mutual Fund in Hindi

म्यूच्यूअल फंड्स जैसा नाम से ही प्रतीत होता हैं ये एक ऐसा फण्ड होता हैं जिसमे कई जनो के पैसे लगे होते हैं। जैसे आप पैसे निवेश करेंगे ऐसे ही और लोगो ने भी पैसे लगाए होते हैं ताकि वो मुनाफा कम सके। इस पैसे को बाज़ार में अलग अलग विभागों में लगाया जाता हैं ताकि मुनाफा  कमाया जा सके। जिन लोगो को बाज़ार के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं हैं उनके लिए भी म्यूच्यूअल फंड् में पैसे लगाना आसान और कम जोखिम भरा होता हैं। Mutual Fund में निवेश खाली शेयर बाज़ार तक सिमित नहीं हैं बल्कि सोना, चंडी बांड्स, स्टॉक या फिर अन्य सरकारी सिक्यूरिटी में भी Money Invest किया जाता हैं।

 

म्यूच्यूअल फण्ड में Invest करना safe हैं? : Mutual Fund in India

भारत में म्यूच्यूअल फंड्स SEBI (The Securities and Exchange Board of India) के देख रेख में काम करते हैं। SEBI एक सरकारी संस्था है जो 1988 में बनी थी और उसके बनाए गए नियमो के आधार पर ही म्यूच्यूअल फंड्स काम करते हैं चूँकि इसकी देख रेख और कानून सरकारी संस्था SEBI के अंतर्गत आते हैं इसलिए कोई भी म्यूच्यूअल फण्ड स्कीम या कंपनी अपनी मनमानी नहीं कर सकती हैं। इसलिए mutual fund में निवेश को safe investment कहा जाता हैं।

म्यूच्यूअल फंड्स में पैसे Invest कैसे करे?

Mutual Fund में पैसे इन्वेस्ट करने के 2 तरीके हैं पहला आप सीधा बिना किसी को बिच में लिए निवेश कर सकते हैं और दूसरा तरीके में आप professional fund managers के द्वारा निवेश कर सकते हैं। ये fund managers इस काम में एक्सपर्ट होते हैं और उन्हें म्यूच्यूअल फंड्स और बाज़ार के बारे में अच्छी जानकारी होती हैं। सरल भाषा में बोला जाए तो वो आपके पैसे ऐसे जगह लगाते है झा से आपको ज्यादा से ज्यादा फायदा मिल सके।

  • सीधा म्यूच्यूअल फण्ड में पैसे इन्वेस्ट करने पर आप म्यूच्यूअल फण्ड स्कीम के Direct Plan में निवेश कर पाएंगे। पैसे निवेश आप Mutual Fund की official website पर जाकर या फिर इसकी अधिकृत ब्रांच में जाकर कर सकते हैं। Direct Investment फायदा ये है की इसमें आपको किसी तरह का कोई commission नहीं देना पड़ता। इस तरीके का नुकसान भी कई है। एक तो आपको सब formalities खुद करनी होती हैं और रिसर्च करने के साथ सब देख रेख आपको खुद करनी होगी। जिसमे आपका काफी समय तो लगेगा ही और अगर आपको सही से मार्किट और स्कीम की पूरी जानकारी नहीं है तो नुकसान होने का भी काफी रिस्क रहता हैं।
  • अगर आपको fund managers के द्वारा इन्वेस्ट करते है तो सब document formalities और अन्य देख रेख का काम वो देखेगे। जब आप किसी सलाहकार यानी फण्ड मेनेजर को बीच में लेकर निवेश करते है तो आप इनकी स्कीम के regular plan में पैसे इन्वेस्ट करेंगे।

 

म्यूच्यूअल फण्ड के प्रकार : Type of Mutual Funds in Hindi

SEBI यानि The Securities and Exchange Board of India ने म्यूच्यूअल फण्ड को 4 श्रेणी में विभाजित किया हैं जो इस प्रकार हैं :

1. इक्विटी म्यूचुअल फंड स्कीम

इन योजनाओ में पैसा निवेश सीधा शेयरों में जाता हैं। इन स्कीम में हम कम समय में काफी ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं पर उसके साथ में short term में इसमें रिस्क भी काफी रहता हैं। मुनाफा या नुकसान इस बात पर निर्भर करता हैं की शेयर मार्किट के कितना उतर चढाव आता हैं। निवेशको को इन स्कीम में लम्बे समय तक निवेश करना चहिये। कम से कम 5-10 साल तक investment करने से अच्छे return की संभावना ज्यादा रहती हैं।

2. डेप्ट म्यूचुअल फंड योजना

इस योजना में पैसा लगाना कम जोखिम भरा होता हैं। अगर आप short-term investment करना चाहते हैं तो ये स्कीम आपके लिए सही हो सकती हैं। चूँकि इन योजनाओ में पैसा सरकारी बांड्स और दुसरे सुरक्षित जगह लगाया जाता हैं। अगर आप 5 साल से कम समय के लिए इनवेस्ट करना चाहते है तो आपके लिए ये स्कीम सही हैं। हालाँकि इसमें मुनाफा उतना ज्यादा नहीं होता।

3. सोलूशन ओरिएंटेड स्कीम

सोलूशन ओरिएंटेड योजनाओ में child’s education (बच्चो की पढ़ाई) और retirement जैसी कुछ विशेष आती हैं। इन स्कीम की एक फिक्स 5 साल की अवधि होती हैं।

4 . हाइब्रिड म्यूचुअल फंड स्कीम

इस म्यूच्यूअल फण्ड केटेगरी में इक्विटी (equity) और डेप्ट (debt) दोनों स्कीम में मिला जुलकर निवेश किया जाता हैं। इसमें फायदा ये है की इसमें मुनाफा और जोखिम बैलेंस हो जाता हैं।

हम उम्मीद करते हैं Mutual Fund क्या हैं और ये कैसे काम करता हैं? और दुसरे म्यूच्यूअल फण्ड से संबधित सवालो के जवाब आपको मिल गए होंगे। अन्य कोई सवाल आप कमेंट में लिखकर पूछ सकते हैं।

Leave a Reply

error: Content is protected !!