RTI Full Form क्या है? आरटीआई ऑनलाइन कैसे लगाए पूरी जानकारी

भारत में किसी नागरिक को सरकार से कोई सवाल पूछना है या फिर कोई जानकारी लेनी है तो उसे RTI लगाने की सलाह दी जाती है। आरटीआई लगाने के कुछ समय बाद ही उन्हें सरकार से लिखित में उसका जवाब मिल जाता है। इंडिया में बहुत से लोग ऐसे भी है जिन्हें नहीं पता होता की RTI क्या होता है? RTI का मतलब और Full Form क्या होती है और आरटीआई ऑनलाइन कैसे लगाई जाती है? आरटीआई एक्ट से संबधित ऐसे सभी जानकारी आगे आपको विस्तार से देंगे, इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक पूरा पढ़े।

आरटीआई भारत के नागरिको को सुचना अधिकार देता है। वो सूचना किसी सरकारी काम, किसी कानून को लेकर या अपने अन्य किसी अधिकार से जुडी हो सकती है। उदहारण के लिए आपके गाँव में कोई निर्माण कार्य हुआ है जिसे गाँव के सरपंच द्वारा करवाया गया है और आपको उस निर्माण कार्य कुल लागत और अन्य जानकारी चाहिए तो आप उसके लिए RTI लगा सकते है। जिसके बाद आपके द्वारा मांगी गई जानकारी सीधा सरकार से आपको कुछ समय में ही मिल जाएगी। ये जानकारी संबधित सरकारी विभाग से मिलती है इसलिए इसकी प्रमाणिकता में भी कोई शक नहीं होता।

आरटीआई क्या है – What is RTI Meaning & Full Form

भारत का सविधान देश के नागरिको को सूचना का अधिकार प्रदान करता है। RTI भारतीय संसद द्वारा पारित किया गया ऐसा ही एक अधिनियम है जो भारतीय नागरिको के सूचना के अधिकार को लेकर नियम और प्रक्रिया निर्धारित करता है। RTI की मदद से आप किसी भी तरह की जानकारी ले सकते है। इस अधिनियम के आने से सरकार और देश के नागरिको के बीच पारदर्शिता भी बढती है।

सूचना का अधिकार पहले Freedom of Information Act, 2002 के नाम से था जिसे RTI Act से बदला गया था। भारत के संसद में 15 जून, 2005 में RTI ACT पास हुआ था। ये अधिनियम 12 अक्टूबर 2005 प्रभावी रूप से शुरू हुआ था। जिसके बाद से हर रोज हजारो आरटीआई दर्ज होती है जिनका जवाब एक निश्चित समय में नागरिको को दिया जाता है।

अगर आप किसी सरकारी संस्थान, किसी सरकारी कार्य या अन्य कोई जानकारी पाने के लिए RTI लगाना चाहते है तो आपको उससे संबधित विभाग में RTI Application Submit करनी होती है। उस संस्थान द्वारा उस RTI का जवाब 30 दिन के अंदर देना होगा। भारत के किसी भी राज्य का नागरिक आरटीआई ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से लगा सकता है, जिसके बारे में नीचे डिटेल में बात करेंगे।

आरटीआई फुल फॉर्म क्या है – RTI Full Form in Hindi

  • RTI Full Form – Right to Information
  • आरटीआई फुल फॉर्म – सूचना का अधिकार

इंडिया के सभी संवैधानिक अथॉरिटीज इस एक्ट के अंतर्गत आते है जो इससे भारत के सबसे शक्तिशाली कानूनों में से एक बनाता है। हालाँकि आरटीआई भारत के सविधान में मौलिक अधिकार के रूप में शामिल नहीं है, ये अधिनियम सविधान में अनुच्छेद 19(1)(ए) अभिव्यक्ति और बोलने की आजादी और अनुच्छेद 21 (व्यक्तिगत स्वतंत्रता का अधिकार) की गारंटी देता है।

RTI (Right to Information) के फायदे

  • आरटीआई से आप सीधा सरकार से जानकारी ले सकते है जिससे देश के नाम नागरिको और सरकार के बीच में पारदर्शिता बनती है।
  • आपके एरिया में होने वाले सड़क निर्माण, गली निर्माण या किसी भी अन्य सरकारी काम की लागत से लेकर अन्य सभी जानकारी आप Right to Information (Full Form of RTI) लगाकर ले सकते है।
  • आपके आस पास कोई भ्रष्टाचार हो रहा और आपको उसकी जानकारी है तो आप आरटीआई एक्ट के माध्यम से उसकी जानकारी संबधित विभाग तक पंहुचा सकते है। आरटीआई कानून के बनने के बाद से भ्रष्टाचार पर भी लगाम लगी है।
  • देश के आम नागरिको के अन्य अधिकारों की रक्षा भी आरटीआई द्वारा होती है। अपने अधिकारों की पूरी जानकारी लेने के लिए भी आरटीआई दर्ज की जा सकती है। जिसका जवाब 30 दिन के अंदर आपको मिल जाता है।
  • आस पास टूटे रोड, अवैध अतिक्रमणों और अन्य किसी गैर कानूनी गतिविधियों की शिकायत आप सीधा सरकार से कर सकते है। क्योंकि शिकायत सीधा सरकार तक पहुचती है तो उसका समाधान भी जल्द मिलने की संभावना रहती है।

आरटीआई कैसे लगाएं – How to Fill RTI Application Online

अपने सूचना के अधिकार RTI का इस्तेमाल आप Online और Offline दोनों तरीके से कर सकते है। नीचे हमने आरटीआई ऑनलाइन लगाने का तरीका बताया है।

  • आपको सबसे पहले RTI Online की ऑफिसियल वेबसाइट (rtionline.gov.in) पर जाना है।
  • आरटीआई वेबसाइट पर आपको कई विकल्प दिखाई देंगे जिसमे से मेनू में दिए Submit Request विकल्प पर आपको क्लिक कर देना है।
RTI Full Form in Hindi
RTI Full Form
  • इसके बाद अगले पेज पर आपको आरटीआई ऑनलाइन पोर्टल के उपयोग के लिए दिशानिर्देश दिखाई देंगे, जिन्हें आपको ध्यान से पढ़ लेना है। इसमें RTI application online submit करने से जुड़े रूल लिखे होगे।
  • दिशानिर्देश पेज पर नीचे ‘I have read and understood the above guidelines‘ के आगे दिए बॉक्स में टिक करने के बाद नीचे दिए Submit बटन पर क्लिक करे।
RTI Application Online kaise lagaye
Online RTI
  • अब अगले पेज पर आपके सामने Online RTI Request Application Form खुल जाएगा। इस फॉर्म में सबसे पहले दिए विकल्प  Select Ministry/Department/Apex body में संबधित विभाग को सिलेक्ट करना है। यानी जिस विभाग से जुडी जानकारी के लिए आरटीआई लगाना चाहते है उसे चुने। उसके बाद इस विभाग के Public Authority को चुने।
  • इसके बाद आपको अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर इत्यादि व्यक्तिगत जानकारी भरनी है।
Online RTI Request Application Form Submit
RTI Application Form
  • आरटीआई एप्लीकेशन फॉर्म के आखिर में आपको Text for RTI Request application का विकल्प मिलेगा जिसमे आपको विषय पूरा लिखना है।
  • उसके नीचे संबधित डॉक्यूमेंट को भी अपलोड करना है और अंत में दिए सबमिट बटन पर क्लिक कर देना है।
  • अगले पेज पर आपको RTI Fees की Payment भी Online कर देनी है। RTI लगाने की फीस 10 रूपए है जिसे आपको क्रेडिट/डेबिट कार्ड या UPI से कर सकते है।

इस तरह आरटीआई ऑनलाइन लगाने की प्रक्रिया पूरी होती है। आप अपने Right to Information (RTI Full Form) का Status भी यही से Online देख पाएँगे।

आरटीआई से संबधित आम सवाल FAQ

RTI का जवाब कितने दिनों में आता है?

आपके द्वारा आरटीआई सफलतापूर्वक दर्ज कराने के 30 दिन के अंदर आपको जवाब मिल जाता है। अगर आपको 30 दिन के बाद भी RTI का जवाब नहीं मिला है तो आप First Appeal Submit कर सकते है।

आरटीआई लगाने के लिए कितनी फीस लगती है?

आमतौर पर RTI File करने के लिए ली जाने वाली Fees 10 रूपए होती है। हालाँकि भारत के अलग राज्यों में ये फीस 10 रूपए से 100 रूपए के बीच हो सकती है।

आरटीआई की फुल फॉर्म / पूरा नाम क्या है?

RTI Full Form है Right to Information. हिंदी में आरटीआई का पूरा नाम/ फुल फॉर्म है सूचना का अधिकार।

Share This Post:

Leave a Comment