TRP क्या हैं पूरी जानकारी: What is TRP Full Form & Meaning

कई बार टीवी देखते समय या समाचारों मे आपने सुना होगा किसी TV Channel के किसी एक ख़ास Show की TRP बढ़ गयी हैं या गिर गयी हैं। आजकल सभी TV Channel मे भी टीआरपी बढाने की होड़ लगी हुई हैं। क्या आप जानते हैं TRP क्या हैं (Trp meaning in Hindi) इसकी Full Form क्या हैं और कैसे ये पता लगाया जाता हैं की टीआरपी कितनी हैं। और इसका महत्व क्या हैं? सरल भाषा मे समझा जाए तो टीआरपी एक ऐसा टूल हैं जिससे किसी भी प्रोग्राम की पॉपुलैरिटी का पता लगाया जाता हैं। चलिए आगे जानते हैं TRP से जुडी सभी जानकारी।

अगर अभी की बात की जाए तो The Kapil Sharma Show और Kaun Banega Crorepati ऐसे 2 TOP Show हैं जिनकी TRP Rating काफी ज्यादा हैं। Star Plus, Sony tv, Colors या किसी और चैनल के किसी भी प्रोग्राम की टीआरपी घटती बढती रहती हैं।

 

टीआरपी क्या हैं : What is TRP Full Form

What is TRP Full Form Meaning in Hindi

TRP की Full Form हैं Television Rating Point. हिंदी मे टीआरपी की फुल फॉर्म हैं टेलीविज़न रेटिंग पॉइंट। किसी टीवी चैनल और किसी शो को कितने लोग देखते हैं यानी वो कितना पोपुलर हैं? ये हम उसकी टीआरपी से अंदाज़ा लगा सकते हैं। जितने ज्यादा लोग किसी TV Show को देख्नेगे उतनी ही अधिक उसकी TRP होगी।

लोगो की दिलचस्पी किस प्रोग्राम को देखने मे हैं और किस समय कौन सा शो वो देखते हैं ये सब जानकारी हमें TRP से मिल जाती हैं। टीआरपी से Advertisers और Investors को लोगो के मूड का पता चलता हैं और वो किसी TV Channel या TV Show की TRP से ये फैसला ले सकते हैं की उन्हें कौन से प्रोग्राम मे अपने विज्ञापन चलाने हैं और विज्ञापन मे कितना पैसा निवेश करना सही रहेगा।

 

TRP की जांच (Calculate) कौन और कैसे करता हैं

क्या आप जानते हैं Television Rating Point कौन तय करता हैं। कौन ये जांच करता हैं की किसी चैनल की TRP कितनी हैं? TRP Calculate 2 भारतीय एजेंसी द्वारा ही की जाती हैं जिनके नाम हैं INTAM और DART. INTAM की फुल फॉर्म हैं Indian Television Audience Measurement. वर्तमान मे INTAM ही मुख्य एजेंसी हैं जो टीआरपी चेक करती हैं।

DART यानी दूरदर्शन ऑडियंस रिसर्च टीम उस समय से TRP तय करती थी जब एक ही चैनल हुआ करता था Doordarshan. हालाँकि ये एजेंसी अभी भी काम कर रही हैं। DART जो ग्रामीण लोगों के टीवी देखने के पैटर्न की जांच करती हैं। ये एजेंसी गावो मे जाकर वहा लोगो से टीवी चैनल और अलग अलग प्रोग्रामो के बारे मे सवाल पूछती हैं। इसके साथ मे ये इलेक्ट्रॉनिक्स माध्यम से भी लोगो का मूड और पसंद पता करती हैं।

 

Television Rating Point Calculate करने के तरीके

1. टीआरपी जांचने का पहला और पोपुलर तरीका हैं People Meter.  इसमें कुछ हजार लोगो के घर मे एक डिवाइस लगा दी जाती हैं जो उनके देखे गए सभी प्रोग्राम का लेखा जोखा रखती हैं। ये एक प्रकार का सर्वे होता हैं। जिसमे परिवार के लोगो या किसी ख़ास मेम्बर द्वारा देखे जाने वाली चैनल और टीवी शो का डाटा रिकॉर्ड किया जाता हैं।

कितने लोग किस सीरियल को कितने बार और किस समय देखते हैं ये सब डाटा पीपल मीटर के द्वारा रिकॉर्ड होता रहता हैं। और ये डाटा INTAM (Indian Television Audience measurement) टीम को भेजा जाता हैं। जिसके आधार पर INTAM Channels और TV Serial की TRP निर्धारित करती हैं। इनके आधार पर ही Weekly, Monthly Top 10 TRP Rating Channel और TV Serial की List जारी की जाती हैं।

2. TRP Check करने के दूसरे तरीके को picture matching कहते हैं जिसमे लोगो द्वारा देखे गए प्रोग्राम की पिक्चर के एक हिस्से को रिकॉर्ड किया जाता हैं। ये डाटा उन कुछ घरो से लिया जाता हैं जिनमे पीपल मीटर लगे हुए होते हैं। इस डाटा का विश्लेषण किया जाता हैं जिसके आधार पर टीआरपी की गणना होती हैं।

  • जाने All Channels TRP (This Week) : Barc India

TRP बढ़ने या घटने से क्या होता हैं?

क्या कभी आपने सोचा हैं की टीवी चैनल की कमाई कैसे होती हैं? दोस्तों किसी भी टीवी चैनल या किसी प्रोग्राम की कमाई उसकी टीआरपी पर काफी हद तक निर्भर करती हैं। टीवी चैनल की कुल कमाई का 80% से अधिक विज्ञापनों (advertisements) से आता हैं। विज्ञापनों का सीधा सम्बन्ध TRP से हैं। किसी भी टीवी सीरियल की टीआरपी बढ़ने घटने का सीधा प्रभाव उस सीरियल की कमाई पर पड़ता हैं।

अगर किसी टीवी प्रोग्राम या चैनल की TRP कम है जिसका मतलब होता हैं उसे कम लोग देख रहे हैं। जिसके वजह से उस प्रोग्राम या चैनल को Advertisers कम विज्ञापन देगा और विज्ञापन मिलेंगे तो कम पैसे मे मिलेंगे। वही अगर किसी TV Channel या Show की TRP High होती हैं तो अच्छे और बड़े ब्रांड के विज्ञापन मिलेंगे जिससे कमाई भी काफी होगी।

हम ये कह सकते हैं टीआरपी केवल किसी चैनल पर ही नहीं, प्रोग्राम पर भी निर्भर करती हैं। उदहारण के लिए Colors Tv पर आने वाले Reality Show Big Boss की TRP अगर Sony Tv Channel के Comedy Show ‘The Kapil Sharma Show’ से अधिक हैं तो उससे Advertiser Big Boss को विज्ञापन देना ज्यादा पसंद करेंगे और उसके लिए Pay भी अधिक करेंगे।

तो दोस्तों आज आपने जान लिया की क्यों TRP किसी भी Channel या Serial के लिए कितनी महत्वपूर्ण होती हैं। कोई भी शो कितने पैसे कम सकता हैं वो उसकी टीआरपी पर निर्भर करता हैं। इसी वजह से आज के समय हर टीवी चैनल मे Television Rating Point बढाने के होड़ लगी रहती हैं। Indian News Channel भी असल मुद्दों के बजाय ऐसे टॉपिक पर डिबेट कराते हैं जो उनकी TRP बढ़ा सके।

अगर आपको ये लेख टीआरपी क्या हैं: What is TRP (Full Form) Meaning in Hindi? अच्छा लगा हो तो इसे सोशल मीडिया पर दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे। Television Rating Point से जुडी कोई और जानकारी जानने के लिए कमेंट्स मे अपने सवाल लिखे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!