ICU Full Form: आईसीयू क्या हैं पूरी जानकारी हिंदी में

आईसीयू क्या हैं ICU Full Form क्या हैं और ये काम कैसे करता हैं? इन सब सवालो से जुडी जानकरी आज हम आपको इस लेख में देंगे। दोस्तों जब हमारा कोई जानने वाला किसी बीमारी या चोट की वजह से ICU में Admit हो जाता हैं तो उससे घबराहट होना स्वाभाविक हैं। क्योंकि किसी की हालत गभीर होती हैं और उससे विशेष इलाज की जरुरत होती हैं तभी उसे हॉस्पिटल के आईसीयू में दाखिल किया जाता हैं।

हर हॉस्पिटल में एक आईसीयू वार्ड होता हैं जहा उन लोगो को रखा जाता हैं जिनकी हालत गभीर होती हैं। ICU में एडमिट हुए मरीज की ख़ास देखभाल की जाती हैं जिसके लिए वहा पर कई ऐसे मेडिकल उपकरण होते हैं जो इलाज में मदद करते हैं। आगे हम विस्तार से आईसीयू का महत्व और कार्यप्रणाली के बारे में जानेंगे।

आईसीयू क्या हैं: ICU Full Form & Meaning in Hindi

ICU Full Form Meaning in Hindi

ICU Full Form

ICU की Full Form हैं Intensive Care Unit. हिंदी में आईसीयू की फुल फॉर्म हैं गहन चिकित्सा विभाग। ICU सभी Hospital में एक अलग Room होता हैं जिसे कुछ लोग Emergency Room भी कहते हैं। जब किसी गंभीर चोट या बीमारी के कारण किसी मरीज की हालत इतनी नाजुक होती हैं की उसके शरीर को सामान्य कार्यों के लिए भी विशेष उपकरणों और दवाइयों की की आवश्यकता होती हैं। ऐसे में उन्हें एक ख़ास  कमरे में रखा जाता हैं जहा उनपर विशेष ध्यान देते हुए ट्रीटमेंट किया जाता हैं।

आईसीयू में मरीजो की निगरानी और इलाज हॉस्पिटल के वरिष्ठ डॉक्टरों द्वारा की जाती हैं। साधारण वार्ड की तुलना ICU में प्रत्येक मरीज के लिए ज्यादा संख्या में नर्सो की व्यव्यस्था होती हैं। कुछ हॉस्पिटल में ख़ास बीमारियों के लिए अलग वार्ड होते हैं। कई बार गभीर होने पर किसी मरीज को दूसरे हॉस्पिटल में भी ट्रांसफर किया जा सकता हैं।

किसी मरीज को कितने समय तक गहन चिकित्सा विभाग में रहना होगा ये उसकी बीमारी की गंभीरता और चोट पर निर्भर करता हैं। अधिकांश रोगी आईसीयू में काफी जल्दी रिकवर कर जाते हैं। वही कुछ मरीजो को कुछ हफ्तों से लेकर महीनो तक रहना पड़ सकता हैं। हर मरीज आईसीयू में एडमिट होने पर ठीक ही हो जायगा ये भी दुर्भाग्यवश संभव नहीं हैं। कभी कभी किसी मरीज की मृत्यु भी हो सकती हैं।

पढ़े:

 

ICU में Admit कब किया जाता हैं?

जैसा की हम सब जानते ही हैं जब किसी को कोई छोटी मोटी चोट लग जाती हैं या कोई बीमारी हो जाता हैं तो उसे सीधा ही आईसीयू में कभी भर्ती नहीं किया जाता। जब कोई बीमार होता हैं तो शुरुआत में उसे हॉस्पिटल के नार्मल वार्ड में रखकर ही इलाज शुरू किया जाता हैं। अगर वहा उसकी स्थिति में सुधार नहीं होता और हालत गंभीर हो जाती हैं तभी उसे ICU में Admit किया जाता हैं जहा उनका इलाज ख़ास देख रेख में होता हैं।

हालाँकि अगर कोई दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो जाता हैं या गंभीर बीमारी होने पर मरीज को सीधा ही आईसीयू में एडमिट किया जा सकता हैं।  इसके अलावा शिशु जब समय से पहले पैदा हो जाते हैं या ऐसे शिशु जो किसी बीमारी के साथ पैदा होते हैं तो उनकी विशेष देखभाल के लिए आईसीयू में रखा जा सकता हैं। नीचे कुछ ऐसे बीमारियों और चोट के नाम हैं जिनके होने पर आईसीयू में इलाज किया जाता हैं।

  • अगर किसी का बहुत बड़ा एक्सीडेंट हुआ हो जिसमे उसे बहुत चोट लगी हैं जिससे उसकी हालत गंभीर हो गयी हैं तो ऐसे में हॉस्पिटल के ICU में एडमिट करके इलाज किया जाता हैं।
  • दिल का दौरा पड़ने पर सीधा ही मरीज को आईसीयू में एडमिट किया जाता हैं। जहा डॉक्टर और नर्स गहन निगरानी में ट्रीटमेंट शुरू करते हैं।
  • किसी कारणवश कोमा में चले जाने पर मरीज को आईसीयू में रखा जाता हैं।
  • Spinal Cord या Brain जैसे किसी बड़ी सर्जरी के बाद कुछ समय के लिए गहन निगरानी के लिए आईसीयू में मरीज को रखा जा सकता हैं।
  • अगर किसी की किडनी फेल हो जाए तो उसे डायलिसिस के लिए ICU में दाखिल किया जाता हैं।

 

मरीज को आईसीयू में ले जाने पर क्या होता हैं?

जब किसी मरीज को ICU में Admit किया जाता हैं तो डॉक्टर और नर्स उसकी स्थिति को आकलन करते हैं जिसमे उसकी निरंतर निगरानी करते हैं। जिसमे डॉक्टर को एक घंटे से अधिक समय लग सकता हैं।

गहन चिकित्सा विभाग में मरीज के भर्ती होने के शुरुआत में कुछ समय के इंतजार करना सामान्य होता हैं। ये समय मरीज के जानने वालो  के लिए परेशानी का शबब बना रहता हैं। पर ये समय मरीज के ठीक होने में सबसे महत्वपूर्ण होता हैं जिसमे डॉक्टर और नर्स रोगी की स्थिति को स्थिर करने की कौशिश करता हैं जिसके लिए सबसे पहले उन्हें ICU में होने वाले आवश्यक उपकरणों के साथ जोड़ा जाता हैं।

 

ICU में इलाज के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले उपकरण

आईसीयू में मरीज के विशेष देख रेख और आवश्यक सपोर्ट के लिए कई उपकरणों (equipment) का इस्तेमाल किया जाता हैं। अगर आप कभी ICU Ward में गए हैं तो आपने वहा कई Wire, Tube, Pipe और Machine देखे होंगे। अगर किसी का कोई रिश्तेदार, दोस्त या कोई और जाननेवाला कभी आईसीयू में एडमिट होता हैं तो उनके लिए ये उपकरण देखकर घबराना स्वाभाविक हैं।

अगर किसी मरीज को दिल की कोई समस्या हैं या फिर उसकी हालत ऐसे हैं जिसमे ह्रदयगति की देख रेख होना जरुरी हैं तो उसके लिए Heart Monitor होता हैं। अगर सांस की कोई दिक्कत हैं तो उसके लिए वहा कृत्रिम वेंटिलेटर होता हैं। इसी तरह से बीमारी और आवश्यकता के अनुसार कई तरह की मशीन और अन्य उपकरण आईसीयू में हो सकते हैं।

 

दोस्तों Hindi Use की ये जानकारी आईसीयू क्या हैं: What is ICU Full Form in Hindi? आपको अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ Facebook, twitter, Instagram और Whatsapp पर शेयर जरुर करे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!